BAMS

BAMS (बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी) चिकित्सा क्षेत्र में एक एकीकृत भारतीय डिग्री है | यह डिग्री कार्यक्रम उन छात्रो को दिया जाता है जो आधुनिक दवाइयों और पारंपरिक आयुर्वेद का अध्ययन करते है | BAMS पुरानी और प्राचीन आयुर्वेदिक चिकित्सा व्यवस्था में अंडर ग्रेजुएट डिग्री प्रोग्राम है जिसमें कफ, पित्ता और वात की सद्भाव बढ़कर शरीर को रोकथाम और इलाज होता है”। इस डिग्री को 5 साल और 6 महीने की डिग्री के पूरा होने के बाद 4 और 1/2 साल के शैक्षणिक सत्र और लाइव व्यावहारिक कार्यक्रम के साथ एक वर्ष के इंटर्नशिप कार्यक्रम के बाद दिया जाता है।

BAMS में एडमिशन, स्कोप, करियर, नौकरियां और वेतन की पूरी जानकारी

BAMS यूजी डिग्री पाठ्यक्रम प्रत्येक 1.5 वर्षों के तीन खंडों में विभाजित है। इन वर्गों को तीन व्यावसायिक पाठ्यक्रम कहा जाता है। पहले पेशेवर पाठ्यक्रम में छात्रों को शरीर विज्ञान, शरीर विज्ञान और आयुर्वेदिक प्रणाली के इतिहास के बारे में पढ़ाया जाता है। दूसरे कोर्स में वे विष विज्ञान और औषध विज्ञान के बारे में पढ़ाते हैं और अंतिम पाठ्यक्रम में सर्जरी, ईएनटी, त्वचा, प्रसूति और स्त्री रोग शामिल हैं। पूरे पाठ्यक्रम में आधुनिक शरीर रचना विज्ञान, दवाइयों के सिद्धांत, शरीर विज्ञान, सामाजिक और निवारक दवाएं, फॉरेंसिक दवा, सर्जरी के सिद्धांत, विष विज्ञान, ईएनटी, वनस्पति विज्ञान और औषधि विज्ञान शामिल हैं। BAMS से सम्बंधित पूरी जानकारी विस्तार में नीचे दी गयी है |

BAMS में एडमिशनBAMS में एडमिशन लेने के लिए निम्न प्रक्रिया पूरी करना आवश्यक है जो की नीचे दी गयी है |

  • BAMS में एडमिशन लेने के लिए छात्रो को 10+2 कक्षा भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान अच्छे अंको से उत्तीर्ण करनी होगी|
  • छात्रो को विभिन्न राष्ट्रीय और राज्य स्तर की प्रवेश परीक्षा की परीक्षा में जाना चाहिए जैसे: KLEU AIET-KLE यूनिवर्सिटी , AP EAMCET- आंध्र प्रदेश इंजीनियरिंग, एग्रीकल्चर, एंड मेडिकल कॉमन एंट्रेंस टेस्ट, असम CEE – असम कंबाइंड एंट्रेंस एग्जामिनेशन, TS EAMCET-तेलंगाना इंजीनियरिंग, एग्रीकल्चर, एंड मेडिकल कॉमन एंट्रेंस टेस्ट |
  • छात्रो का चयन अंतिम योग्यता पर आधारित है क्योंकि 12 वीं के रूप में उत्तीर्ण परीक्षा में प्राप्त कुल संख्याओं की संख्या और प्रवेश परीक्षाओं में दर्ज़ संख्या पर होगा |

BAMS के लिए टॉप कॉलेजस की सूची

  • श्री धन्वन्तरी आयुर्वेदिक कॉलेज, चंडीगढ़
  • राजीव गाँधी यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेल्थ साइंसेज, बैंगलोर
  • गुजरात आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी, जामनगर
  • JB रॉय स्टेट मेडिकल कॉलेज,कोलकाता
  • आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज, कोल्हापुर

BAMS में करियर / स्कोप / नौकरियांदिन-प्रति-दिन आयुवेदिक का क्षेत्र अन्य चिकित्सा प्रणालियों के लिए न केवल भारत में बल्कि दुनिया में भी अतिव्यापी है। कई मामलों में लोगों ने आयुर्वेदिक प्रणाली और पुरानी और गैर-मस्तिष्क रोग के इलाज के लिए दवाओं की भरोसे के लिए अनुभव लिया है। कई मामलों में, जब एलोपैथिक प्रणाली किसी विशेष बीमारी और आत्मसमर्पण के साथ विफल हो जाती है, तो आयुर्वेदिक चिकित्सा बीमारी या रोगी को फिर से जीवंत करने के लिए जादुई प्रभाव देती है। BAMS पूरा होने के बाद कैरियर का अवसर न केवल भारत में बल्कि विदेशी देशों में भी है। BAMS वालेविद्यार्थीयो को डॉक्टर के रूप में बुलाया जा सकता है और वह निजी प्रैक्टिस करने के योग्य हैं। BAMS (बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी ) पूरा करने के बाद सरकारी क्षेत्र में रोजगार के अवसर भी मौजूद हैं आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट के रूप में सरकारी आयुर्वेद अस्पताल में नौकरी मिल सकती है। इस कोर्स के पूरा होने के बाद, विद्यार्थियों को आयुर्वेद की दवाओं के खुद का मेडिकल खोलने का भी अवसर मिलता है।

BAMS कोर्स को पूरा करने के बाद जॉब प्रोफाइल निम्नुसार है 

  1. लेक्चरर
  2. साइंटिस्ट
  3. थेरापिस्ट
  4. केटेगरी मेनेजर
  5. बिज़नस डेवलपमेंट ऑफिसर
  6. सेल्स प्रतिनिधि
  7. प्रोडक्ट मेनेजर
  8. फार्मासिस्ट
  9. जूनियर क्लिनिकल ट्रायल समन्वयक
  10. मेडिकल प्रतिनिधि
  11. आयुर्वेदिक डॉक्टर
  12. सेल्स एग्जीक्यूटिव
  13. एरिया सेल्स मेनेजर
  14. असिस्टेंट क्लेम मेनेजर हेल्थ
  15. मेनेजर-इंटरनल ऑडिट

BAMS कार्यक्रमों के पेशेवरो के लिए कुछ रोज़गार क्षेत्र 

  • क्लिनिकल ट्रायल्स
  • हेल्थकेयर कम्युनिटी
  • लाइफ साइंस इंडस्ट्रीज
  • फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज
  • एजुकेशन
  • हेल्थकेयर IT
  • बीमा
  • ऑन ड्यूटी डॉक्टर
  • नर्सिंग होम
  • स्पा रिसोर्ट
  • आयुर्वेदिक रिसोर्ट
  • पंचकर्मा आश्रम
  • सरकारी / प्राइवेट हॉस्पिटल
  • डिस्पेंसरीस
  • कॉलेजस
  • रिसर्च इंस्टिट्यूट

BAMS के कोर्स के लिए अनुमानित फीस : BAMS (बैचलर ऑफ़ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी) कोर्सेज के लिए अलग अलग कॉलेजस में अलग अलग फी स्ट्रक्चर है, जिसका औसत शिक्षण शुल्क 50,000 रूपए से लेकर 12 लाख रूपए तक हो सकता है |

BAMS के लिए वेतनमान :  चिकित्सा क्षेत्र में वेतन अलग-अलग क्षेत्रों में अन्य जॉब प्रोफाइल के लिए बेंचमार्क है। कुछ विश्वविद्यालय आयुर्वेदिक क्षेत्र में पोस्ट-ग्रेजुएट डॉक्टरों को 40 हजार से 50 हजार रुपये प्रति माह के वेतनमान प्रदान करते हैं। BAMS पूरा करने के बाद एक आयुर्वेदिक पेशेवर को वेतन 20,000 रूपए से 50,000 रूपए प्रति माह तक मिल सकता है |

Click here to check about BDS courses  

Click here to check about MBBS courses

Click here to check about all courses after 12th science

यदि आपको इस पोस्ट से सम्बन्धित कोई भी प्रश्न पूछना है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में या मैसेज द्वारा पूछ सकते हैं|

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here